10-rankRanked 11th Among the top
40 global reinsurance
groups by S&P Global Ratings

Page last updated on: 13/03/2020
आगंतुकों : 7766704
Menu

संग्रह

संग्रह

56 वां राउंदेवू सितंबर 2012 ; मोंटे कार्लो 09-13 सितंबर, 2012

और पढ़ें

News & Announcement

2015-16 के दौरान निगम ने अपने व्यवसाय में 21.41 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज़ की. 200 प्रतिशत का लाभांश देने की घोषणा

और पढ़ें

Video

साक्षात्कार

श्रीमती एलिस जी. वैद्यन

अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक

News & Announcement

वित्तीय वर्ष 2016-17 के लिए निगम के वित्तीय परिणाम

और पढ़ें

News & Announcement

निदेशक मंडल की बैठक

और पढ़ें

News & Announcement

अप्रैल, 2018 से जीआइसी री नसिंनिकेट के प्रचालि का लॉयि्स में प्रारिंभ

और पढ़ें

News & Announcement

पहली तिमाही 2018 के लिए जीआईसी रे परिणाम

और पढ़ें

News & Announcement

वित्त वर्ष 2017-18 के लिए लाभांश धनादेश की प्रस्तुति

और पढ़ें

News & Announcement

बोर्ड की बैठक 2019

और पढ़ें

News & Announcement

विकास। अखंडता। प्रतिबद्धता। परिणाम।

और पढ़ें

जीआइसी री टीम का नेपाल दौरा

8 वां अंतर्राष्ट्रीय जोखिम प्रबंधन सम्मेलन

ए.एम. बेस्ट द्वारा 'डायनामिक इन्श्योरेन्स लैंडस्केप' पर सेमिनार

बादेन-बादेन बैठक - 2012

छठां अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

सीएजी द्वारा जीआइसी री का दौरा

जीआइसी री मरीन बीमा पुरस्कार की विजेता

भारतीय साधारण बीमा निगम (जीआइसी री) के ए.एम. बेस्ट की ओर से रेटिंग की पुष्टि

मेरिटाइम स्टैंडर्ड एवार्ड्स के उद्घाटन में जीआइसी री ने वार्षिक मरीन बीमा कंपनी पुरस्कार जीता

भारतीय साधारण बीमा निगम द्वारा दावों का भुगतान करने की क्षमता के लिए केयर द्वारा रेटिंग को पुन: पुष्टिकृत किया जाना

अंतर्राष्ट्रीय एरोस्पेस बीमा कंपनियों (आइयूएआइ) के संघ की वार्षिक आम बैठक 2015

जीआइसी री द्वारा 2015-16 के लिए लाभांश की प्रस्तुति

जीआइसी री द्वारा 2014-15 के लिए लाभांश की प्रस्तुति

2015-16 के दौरान निगम ने अपने व्यवसाय में 21.41 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज़ की. 200 प्रतिशत का लाभांश देने की घोषणा

वित्तीय वर्ष 2015-16 के लिए निगम के वित्तीय परिणाम

जीआइसी री की टीम ने श्री अशोक कुमार रॉय के साथ इस वर्ष  5 जून से 8 जून तक नेपाल का दौरा किया ।  इस दौरे का उद्देश्य नेपालीज इंश्योरेंस इंडस्ट्री और जीआइसी री के बीच के संबंधों को पुनः दृढ करना था ।

एक अंतर्राष्ट्रीय पुनर्बीमा हब - भारत के लिए आवश्यक क्यों

जीआइसी री और हाउडन द्वारा देयता जोखिम और बीमा के बदलते परिदृश्य पर संगोष्ठी का आयोजन