12-rankAmong the top
50 global reinsurance
groups by A M Best Company

Menu

रेटिंग और रैंकिंग

रेटिंग और रैंकिंग

ए.एम. बेस्ट द्वारा भारतीय साधारण बीमा निगम (जीआइसी री) के दर निर्धारण (रेटिंग) की पुष्टि. (11 अप्रैल, 2016)

  • ए.एम. बेस्ट ने भारतीय साधारण बीमा निगम (जीआइसी री) (भारत) को वित्तीय शक्ति रेटिंगके लिए ए-(उत्कृष्ट) की पुष्टि की तथा क्रेडिट रेटिंग "ए-" प्रदान की. दोनों ही दरनिर्धारणों (रेटिंग्स) के लिए उनका परिप्रेक्ष्य स्थिर है.
  • यह दर निर्धारण, जीआइसी री का मज़बूत जोखिम समायोजित पूंजीकरण तथा घरेलू बाज़ार में उसके व्यवसाय प्रोफाइल को प्रतिबिंबित करते हैं.
  • 2015 को समाप्त वित्तीय वर्ष में जीआइसी री की पूंजीगत स्थिति अनुकूल पूंजी वृद्धि के कारण बढ़ कर 415 बिलियन रुपए (यूएस $6.7 बिलियन) हो गई जो कि वित्तीय वर्ष 2010 की समाप्ति पर 261 बिलियन रुपए (यूएस $5.8 बिलियन) थी. पूंजी वृद्धि विशेष रूप से बीमा जोखिम से अधिक रही, जिसके कारण पूंजी बफर में बढ़ोतरी हुई. जीआइसी री भारत के पुनर्बीमा बाज़ार में मज़बूत प्रोफ़ाइल वाली कंपनी रही और यह एक प्रमुख बीमाकर्ता बनी रही.
  • ऑफसेटिंग रेटिंग कारक में जीआइसी री के विदेशी व्यवसाय का कमज़ोर बीमालेखन कार्यनिष्पादन शामिल है, जो इसके सकल प्रीमियम का 42% है. जीआइसी री की मज़बूत जोखिम समायोजित पूंजीकरण के होते हुए भी, कंपनी के उच्च स्तर के इक्विटी निवेश के कारण उचित मूल्य रिज़र्व में परिवर्तन से महत्वपूर्ण उतार-चढ़ाव हो सकता है. विनियामक परिवर्तन, घरेलू बाजार में जीआइसी री के लिए प्रतिस्पर्धा बढ़ा सकते हैं. हालांकि संशोधन अभी भी विकसित हो रहे हैं, और जीआइसी री पर इसके प्रभाव भविष्य में ही जाने जा सकेंगे.
  • सकारात्मक दर निर्धारण पर बल देने से जीआइसी री के बीमालेखन, विशेष तौर पर इसके विदेशी व्यवसाय में लगातार सुधार का परिणाम हो सकता है.
  • नकारात्मक दर निर्धारण पर बल देने से जोखिम समायोजित पूंजीकरण में अप्रत्याशित बृहद कमी हो सकती है जिसका परिणाम प्रतिकूल उचित मूल्य गतिविधि और समग्र परिणामों में अवनति होगा.
  • " इस साइट पर प्रस्तुत बेस्ट की दरनिर्धारण रिपोर्टस्, ए. एम. बेस्ट कंपनी के लाइसेंस के अंतर्गत प्रकाशित होती हैं और वे स्पष्टतः या अंतर्निहित रूप से दरनिर्धारित कंपनी के उत्पादों या सेवाओं का समर्थन नहीं करती हैं. बेस्ट की दरनिर्धारण रिपोर्टस् ए. एम. बेस्ट कंपनी के कॉपीराइटस् होते हैं और ए. एम. बेस्ट कंपनी की स्पष्ट लिखित सहमति के बिना पुनःप्रस्तुत या वितरित नहीं किए जा सकते. इस वेबसाइट के पाठक अपने स्वयं के प्रयोग के लिए यहां प्रदर्शित दरनिर्धारण रिपोर्ट की एकल प्रति का प्रिंट लेने के लिए प्राधिकृत हैं. अन्य प्रिंटिंग, कॉपिंग या वितरण पूर्णतः निषिद्ध है. "
    " बेस्ट का दरनिर्धारण सतत रूप से समीक्षाधीन होता है और परिवर्तन या पुष्टिकरण के अधीन होता है. वर्तमान दरनिर्धारण की पुष्टि करने हेतु www.ambest.com को संदर्भित करें. "
  • प्रमाणपत्र देखें PDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. (355 केबी)

सीएआरई (केयर) द्वारा भारतीय साधारण बीमा निगम (जीआइसी री) की दावा भुगतान क्षमता के दर निर्धारण की पुन: पुष्टि. (23 मार्च, 2016)

  • केअर ने भारतीय साधारण बीमा निगम (जीआइसी री) को दावा भुगतान क्षमता के लिए एएए (इन) रेटिंग की पुष्टि की.
  • जीआइसी री के दर निर्धारण के कारक, भारत सरकार (जीओआइ) में 100% स्वामित्व, एकमात्र राष्ट्रीय पुनर्बीमाकर्ता के रूप में नीतिपरक महत्व, अच्छी शोधन क्षमता की स्थिति और सुकर लिक्विडिटी प्रोफ़ाइल, हैं.
  • जीआइसी री पूरी तरह से भारत सरकार के पूर्णत: स्वामित्व में है और यह एकमात्र राष्ट्रीय पुनर्बीमाकर्ता है. घरेलू परिचालनों के अलावा, जीआइसी री के विदेशों में भी कार्यालय हैं, जैसे मास्को में प्रतिनिधि कार्यालय और लंदन, दुबई तथा मलेशिया में शाखा कार्यालय हैं. जीआइसी री की संयुक्त उद्यम, जीआइसी भूटान री (जीआइसी री की 26% की हिस्सेदारी) के माध्यम से भूटान में और इसके पूर्णत: स्वामित्व की सहायक कंपनी, जीआइसी री साउथ अफ्रीका लिमिटेड के माध्यम से दक्षिण अफ्रीका में भी विद्यमानता है. जीआइसी री की सेवाएं विभिन्न क्षेत्रों में विद्यमान हैं, जिनमें प्रमुख क्षेत्र हैं, अग्नि, स्वास्थ्य, मोटर और मरीन.
  • जीआइसी री ने वित्तीय वर्ष 2014 के सकल प्रीमियम रिटन (जीपीडब्ल्यू) 14,680 करोड़ रुपए पर 2,253 करोड़ रुपए के पीएटी के मुकाबले में वित्तीय वर्ष 2015 के 15,184 करोड़ रुपए के सकल प्रीमियम रिटन (जीपीडब्ल्यू) पर 2,694 करोड़ रुपए का पीएटी प्रस्तुत किया है. 15184 करोड़ रुपए के कुल जीपीडब्ल्यू में से 57% घरेलू व्यवसाय से और 43% विदेशी व्यवसाय के फलस्वरूप है. वित्तीय वर्ष 2016 में कंपनी ने 12,671 करोड़ रुपए के सकल प्रीमियम रिटन पर 1637 करोड़ रुपए का पीएटी प्रस्तुत किया है. साल्वेंसी मार्जिन, 31 मार्च, 2015 को 3.04 गुनी और 31 दिसंबर, 2015 को 3.52 गुनी हो गई है.
  • प्रमाणपत्र देखें. PDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. (454 केबी)